Paani ka sanrakshan kaisey karein Jal hi Jeewan hai




Aaj kal jal ki kami ke karan badi samasya hai, aur future me jal ka sanchayan yadi hum nahee kartay to aur adhik sankat ka saamna karna padh sakta hai, Ho sakta hai ki Bhavishy ke yudh Jal ke liye hi ladey jaye.( आज कल जल की कमी के कारन बड़ी समस्या है, और फ्यूचर में जल का संचयन यदि हम नहीं करते  है तो और अधिक संकट का सामना करना पढ़ सकता है, हो सकता है कि भविष्य के युद्ध जल के लिए ही लड़े जाये।)

 

Paani ka sanrakshan kaisey karein Jal hi Jeewan hai

पानी का संरक्षण कैसे करें जल ही जीवन है

Apney Gaaon ya shaher me Roof chhat se bahekar janey waley varsha ke vyarth jal ko bhoomi me gadada banakar jal ke rokenay ki vidhee ko punarbharan vidhee kahetay hain. Isko kis prakar karna chahiye. ( अपने गाँव या शहर  में छत से बहकर जाने वाले वर्षा के व्यर्थ जल को भूमि में गड्ढा बनकर जल के रोकने की विधि को पुनर्भरण विधि कहते हैं. इसको किस प्रकार करना चाहिए )

2 meter chauda चौड़ा aur 3 meter gahera gadada makaan se thodi door par khodain, us gadadhey ko kankad bajree aadi se bhar dain. uskey baad moti sand daaal dain, iskey baad chhat se girney waley varsha jal ko is gaddhay me jaaney dain, ye dhyan rakhain ki isme ganda ya dushit paani na jaye. Barsaat ke mausam me gaown ke taalabon me gaad ya silt bharney ke karnn bhoomi ke ander jal ka risav nahee hopaata, iske liye ek pipe taalab me laga detay hain jisse atrikt jal zameen me chala jata hai. (  2 मीटर चौड़ा और 3 मीटर गहरा गड्ढा मकान से थोड़ी दूर पर खोदें, उस गड्ढे को कंकड़ बजरी आदि से भर दें. उसके बाद मोटी  sand डाल दें , इसके बाद छत से गिरने वाले वर्षा जल को इस गड्ढे में जाने दें. ये ध्यान रखें कि इसमें गन्दा या दूषित पानी न जाये. बरसात  के मौसम में गाँव के तालाबों में गाद सिल्ट भरने के कारण भूमि के अंदर जल का रिसाव नहीं होपाता, इसके लिए एक पाइप तालाब में लगा देते हैं जिससे अतरिक्त जल ज़मीन में चला जाता है. )




Bhoomi ke nichey se adhik paani nikalney ke karan khaali hua jaal bhandar ko punha jaal se bharkar bhavishy ke liye jal aapurti me sudhar karna awashyak hai, saath hi bhh jal ki gunwatta me sudhar aata hai, iske saath hi hum anya chote chote upayo dwara jal ka sanrakshan kar saktey hai jaisey ki, ( भूमि के नीचे से अधिक पानी निकलने के कारन खाली हुआ जल भंडार को पुनः जल से भरकर भविष्य के लिए जल आपूर्ति में सुधर करना आवश्यक है, साथ ही जल की गुणवत्ता में सुधार आता है , इसके साथ ही हम अन्य छोटे छोटे उपायों द्वारा जल का संरक्षण  कर सकते है जैसेकि ),

  • Tapakty nal ki turan marammat karain, टपकती नल की तुरंत मरम्मत करें.
  • Paani ki awashyakta na hony per nal band kar dain.  पानी की आवश्यकता न होने पर नल बंद कर दें
  • sinchayee me kam jal kharch karney waley sadhano ka priyog karain. सिंचाई में कम जल खर्च करने वाले साधनों का प्रयोग करें.
  • Haathon ko saaf karney ke liye Sanitizer ka istemaal karein. हाथों को साफ़ करने के लिए सनिटीजेर का इस्तेमाल करें.
  • Paani ko adhik se adhik bachaney ke pryas karain. पानी को अधिक से अधिक बचाने के प्रयास करें.
  • Glass me utna hi paani nikalain jitna ki aap pee saktey hain. गिलास में उतना ही पानी निकालें जितना कि आप पी सकते हैं.

Uper di gayee baaton ko apnay jeevam me apnaker bhavishy ke liye paani ko bachaney ka pryas karein. ऊपर दी गयी बातों को अपने जीवन में अपनाकर भविष्य के लिए पानी को बचाने का प्रयास करें.




Dosto main ummeed kata hoon ke aapko hamari post Paani ka sanrakshan kaisey karein Jal hi Jeewan hai pasand aayee hogi.

Read This Also : Khaney Peenay ki Vastuon me Milawat खाने पीने की वस्तुओं में मिलावट

Read This Also : Duniya me Sabsey Bada Lamba Uncha सबसे बड़ा सबसे लम्बा सबसे ऊँचा

Read This Also : Duniya me Sabsey Bada Lamba Uncha सबसे बड़ा सबसे लम्बा सबसे ऊँचा

Read This Also : kisney Kya khoja ya invent kiya

Read This Also : Motapa ya Fat ko kaise ghataye ya kam karain in hindi

यदि आप के कुछ सवाल हैं  जो आप पूछना चाहे तो हमें कमेंट बॉक्स मैं लिखकर भेज सकते हैं ऐसी ही दूसरी जानकारियों के लिए, आप हमें सब्सक्राइब भी कर सकते हैं |

Dhanyavaad…….. Appka din shubh ho………

2 thoughts on “Paani ka sanrakshan kaisey karein Jal hi Jeewan hai

  • 29/11/2016 at 2:40 PM
    Permalink

    dear sir
    mera name praveen chopra me aap se jan na chahta hu aaj jo pani hmare ghar me a raha he wo itna ganda he jo pine yogya nahi he aap batay ki pani ko pine yogya kese banay

    Reply
    • 29/11/2016 at 11:18 PM
      Permalink

      praveen chopra ji jis parkar kay pani ki quality ki aap baat kar rahey hain, uska aap R.O water purifier se piney liyak bana saktey hain. Lakin ye Kafi costly hi padega. Yadi aap kay yahan paani ganda aata hai to aap sabsay pahaley uskka source pata karein ki wo paani dushit ya ganda kahan se ho raha hai, usko dushit honey se bachayen aur kam se kam ganday pani ko purifier se filter karney per hi aap ko purify karney me kam paisay kharch karney padengey.

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *