Kaise Asthma yani ke dama ko Kalaunji se sahi karain in Hindi

Kaise Asthma yani ke dama ko Kalaunji se sahi karain in Hindi: Friends aj ham fir se Asthma yani ke Dama ke beemari ke baare main aapko jankari dene ja rahe hain ke ghar main use hone wale masale yani ke Kalaunji ke dwara aap asthma ko control kar saktey hain.

Read This : 3 din main asthama kaise thheek janane ke liye yaha click karain.

Read This : GHAR KE KITCHEN ME USE HONE WALE MASALO KE NAAM HINDI MAIN JAANEY

कलौंजी (Nigella sativa) ya Kalaunji ya Black Seeds:

➖➖➖➖➖➖➖

Black Seeds Kalaunji

Kaise Asthma yani ke dama ko Kalaunji se sahi karain in Hindi:

कलौंजी भारतीय रसोई का अहम मसाला है। हालांकि इसे प्याज के बीज कहा जाता है, लेकिन इसका प्याज से सीधा कोई संबंध नहीं होता। कलौंजी रनुनकुलेसी परिवार का पौधा है। इसे मंगरैल के नाम से भी जाना जाता है। इसका प्रयोग विभिन्न व्यंजनों जैसे दालों, सब्जियों, नान, ब्रेड, केकऔर आचार आदि में किया जाता है। व्यंजनों की विस्तृत विविधता में कलौंजी की खुशबू और स्वाद काआनंद लिया जा सकता है। अपनी खुशबू के अलावा कलौंजी रोगों के इलाज में भी उपयोगी मानी जाती है। आयुर्वेद में भी इसके उपयोग का विवरण मिलता है।

कलौंजी में मौजूद पोषक तत्व Kalaunji main maujood Poshak Tatva:

➖➖➖➖
कलौंजी में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और हेल्थी फैट जैसे पोषक तत्व होते है। साथ ही इसमेंआवश्यक वसीय अम्ल ओमेगा-6 (लिनोलिक अम्ल), ओमेगा-3 (एल्फा- लिनोलेनिक अम्ल) और ओमेगा-9 (मूफा) भी होते हैं। इसके अलावा निजेलोन में एंटी-हिस्टेमीन गुणश्वास नली की मांसपेशियों को ढीला कर प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत और खांसी, दमा, ब्रोंकाइटिस आदि को ठीक करती है। कलौंजी में एंटी-आक्सीडेंट भी मौजूद होता है जो कैंसर जैसी बीमारी से बचाता है।

अस्थमा???? Asthma kee beemari :

➖➖➖➖
अस्थमा श्वास नलिकाओं को प्रभावित करने वाली गंभीर बीमारी है। श्वास नलिकाएं फेफड़े से हवा को अंदर-बाहर करतीहैं।अस्थमा होने पर सूजन आने से ये नलिकाये बेहद संवेदनशील हो जाती हैं। और इसीसंवदेन शीलता के कारण यह किसी भी परेशान करने वाली चीज के संपर्क में आने पर तीखी प्रतिक्रिया करता है। नलिकाओं के प्रतिक्रिया करने परउनमें संकुचन होता है और उस स्थिति में फेफड़े में हवा कम होजाती है। इससे खांसी, नाक से आवाज, छाती कड़ी होना, रात और सुबह में सांस लेने में तकलीफ आदि जैसे लक्षण पैदा होते हैं।

अस्थमा के लिए कलौंजी Asthma ke liye kalaunji ka upyog :

➖➖➖➖➖
अस्थमा की रोक थाम के लिए कई दवायें मौजूद हैं। हालांकि इन दवाओं के कई साइड इफेक्ट भी होतेहैं। अगर आप प्रभावी रूप से प्राकृतिक रूप से विभिन्न अस्थमा की समस्याओं से राहत पाना चाहते हैं तो कलौंजी जैसे अद्वितीय विकल्प को चुना जा सकता है।

क्या कहते हैं शोध Research kya kehti hai:

हाल ही में हुए एक शोध के अनुसार,कलौंजी में मौजूद आवश्यक घटक, थाइमोक्विनोन में अस्थमा के लक्षणों पर काबू पाने की शक्ति होती है। शोधकर्ताओं ने शुरू में जानवरों पर किये अध्ययन से इन आशावादी परिणामों को पता चला। इसके अलावा मनुष्यों पर हुए अनुसंधान से भी इस बात की पुष्टि हुए कि कलौंजी में अस्थमा के लक्षणों को कम करने की चिकित्सीय शक्ति है। शोधकताओं ने पाया कि यह बीज में अस्थमा रोगियों के फेफड़ों को अंदर से मजबूत बनाकर सूजन के खिलाफ लड़ने में मदद करता है और इस तरह की समस्याओं के खिलाफ राहत प्रदान करता है।

थाइमोक्विनोन और निजेलोन नामक तत्व की मौजूदगी

कलौंजी में थाइमोक्विनोन और निजेलोन नामक उड़नशील तेल श्वेतरक्त कणों में शोथ कारक आइकोसेनोयड्स के निर्माण में अवरोध पैदा कर, सूजन कम करने और दर्द निवारण करते हैं। कलौंजी में विद्यमान निजेलोन मास्टर कोशिकाओं में हिस्टेमीन का स्राव कम करती है, श्वास नली की मांस पेशियों को ढीला कर दमा के रोगी को राहत देती हैं।

Kaise Asthma yani ke dama ko Kalaunji se sahi karain in Hindi

श्वास संबंधी अन्य रोग में भी सहायक Saans se sambhandit beemari main help karta hai:

कलौंजी अस्थमा रोगों में सूजन को दूर करती है। अस्थमा के अलावा, कलौंजी अन्य संबंधित समस्याओं जैसे साइनसाइटिस, स्ट्रेस ब्रीथिंग और छाती पर दबाव आदि के इलाज में भी प्रभावीहोती है।i

कलौंजी के उपयोग के उपाय

कलौंजी को इस्तेमाल करने के लिए आप इसके बीज को कुचलकर पानी या दूध के साथ मिक्स करके इस्तेमाल करें।

आप अस्थमा के लक्षणों से राहत पाने के लिए शहद के साथ भी कलौंजी के बीज के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसके अलावा, आप कलौंजी के बीज का छिड़काव व्यंजनों की विस्तृत विविधता जैसे दाल, सब्जियों और इसके स्वास्थ्य लाभ उठाने के लिए आप इसका इस्तेमाल चपाती पर भी कर सकते हैं।

कलौंजी के Other उपयोग

  1.  आपके बाल बहुत गिर रहे है तो कलौंजी पीस कर पतला लेप बनाकर पूरे सर में लगा लीजिये,बाल गिरने बंद और लम्बे होने शुरु.
  2. भैषज्य रत्नावली कहती है कि  अगर कलौंजी को जैतून के तेल के साथ सुबह सवेरे खाएं तो रंग एकदम लाल सुर्ख हो जाता है।
  3. मुंहासे दूर करने है तो इसे सिरके के साथ पीस कर रात में चेहरे पर लगा कर सो जाएँ कुछ ही दिनों में चेहरा साफ
  4.  कलौंजी का तेल बड़ी करामाती चीज है।हाथ-पैरों की सूजन भगाता है, दर्द दूर करता है,चर्म रोग दूर करता है और नामर्दी भी दूर करता है। कलौंजी के अन्य उपयोग निम्नलिखित हैं
  5. मस्सों के लिए –कलौंजी के कुछ दाने सिरके में पीस कर मस्सों पर लगा कर सो जाए कुछ दिनों में मस्से कट जायेंगे।
  6. सर्दी में अगर सिर दर्द हो जाए तो कलौंजी और जीरा बराबर मात्रा  में पीस कर सर में लेप कीजिए .
  7. आपको अगर बार बार बुखार आ रहा है अर्थात दवा खाने से उतर जा रहा है फिर चढ़ जा रहा है तो कलौंजी को पीस कर चूर्ण बना लीजिये फिर उसमे गुड मिला कर सामान्य लड्डू के आकार के लड्डू बना लीजिये। रोज एक लड्डू खाना है ५ दिनों तक , बुखार तो पहले दिन के बाद दुबारा चढ़ने का नाम नहीं लेगा पर आप ५ दिन तक लड्डू खाते रहिएगा, यही काम मलेरिया बुखार में भी कर सकते हैं।
  8. यह तो हम सुनते ही आये हैं की जुकाम हुआ हो तो कलौंजी को महीन कपडे में बाँध कर सूंघते रहने से बहुत आराम मिलता है और जुकाम जड़ से ख़त्म हो जाता है.
  9. ये पथरी को भी गला देती है अगर पथरी छोटी हो तो। इसके लिए कलौंजी को पानी में पीस कर शहद मिला कर पीना होता है।
  10. बहुत हिचकी आ रही हो तो आधा चम्मच कलौंजी का पाउडर आधा चम्मच मक्खन में मिलकर चाट लीजिये।
  11. बवासीर परेशान कर रही हो तो कलौंजी की राख मस्सो पर मल लीजिये.
  12. ऊनी कपड़ों को रखते समय उसमें कुछ दाने कलौंजी के डाल दीजिये,कीड़े नहीं लगेंगे।

Friends mey ummeed karta hoon, aap ko hamari ye post Kaise Asthma yani ke dama ko Kalaunji se sahi karain in Hindi bhee pasand aaye hogi,

Aasha karta hoon ki aap apney comments or sujhab humko nichey diye gaye comment box main bhejtey rahengey.

Yadi aap ko kahee koi bhee problem aa rahee hai then aap apnay Questions humko likh kur bhej saktey hain, hum aap ko Turant Answer denay ki koshish karengey.

Agar ap ko aise hee jankari agey bhi jaana chahtey hai to aap hame subscribe kar saktey hain.

Kripya ooper diye hue kisi bhi ilaj ko karne se phle kisi doctor ka pramarsh zarur le.

Ye post Dr. Izazuddin Shafi ki help se likhi gayi hai.

 

Dhanyavaad / Thanks……

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *